Monday, June 25, 2012

साँप


एक साँप सर सर सर सर 
चल कर के अगया  इधर |
अरे यहाँ से जाओ तुम
इसके पास न आओ तुम 
फन है इसका बहुत बड़ा
देखो ये हो रहा खड़ा 
इसको बिल में जाने दो
इसको चूहे खाने दो
जीभ  निकाली है बहार
मुजको तो लगता है  डर
फन उचकाकर बेठा है
रस्सी जैसा ऐठा है
अब ये सर सर जायेगा
अपनी पूंछ हिलाएगा

No comments:

Post a Comment