Saturday, June 23, 2012

मोर

नाच मोर का सबको भाता, जब वह पंखों को फैलाता |
कुहूँ कुहूँ का शोर मचाता,घूम घूम कर नाच दिखाता ||

No comments:

Post a Comment