Sunday, May 20, 2012

घम्म

आगड़  बागड़ बम्म
कुएं से पानी 
खींच रहे थे हम 
छूती जो हाथ से रस्सी
तो हुई घर्रर्रर्र्र्रर्र्र्र........... घम्म |

No comments:

Post a Comment