Friday, April 20, 2012

चला चाँद से चंदू बनिया

बानरेंन्द्र
चला चाँद से चंदू बनिया
पहने अचकन और सुथनिया |
बन कर पूरा छेल चिकनिया
बोने को धरती पर धनिया |
संपूर्ण कविता पढने के लिए यहाँ क्लिक करे - चकमक

1 comment:

  1. kavita achchhi lagi

    link se direct padh paate to jyada achchha hota

    ReplyDelete